Connect with us

Aarti Sangrah

तुलसी माता की आरती | Tulsi Mata ji ki Aarti (tulsa arti)

तुलसी माता की आरती

तुलसी माता की आरती

जय जय तुलसी माता, सबकी सुखदाता वर माता।
सब योगों के ऊपर, सब रोगों के ऊपर,
रज से रक्षा करके भव त्राता।
बहु पुत्री है श्यामा, सूर वल्ली है ग्राम्या,
विष्णु प्रिय जो तुमको सेवे सो नर तर जाता।
हरि के शीश विराजत त्रिभुवन से हो वंदित,
पतित जनों की तारिणि तुम हो विख्याता।
लेकर जन्म बिजन में, आई दिव्य भवन में,
मानव लोक तुम्हीं से सुख संपति पाता।
हरि को तुम अति प्यारी श्याम वर्ण सुकुमारी,
प्रेम अजब है श्री हरि का तुम से नाता।
जय जय तुलसी माता, सबकी सुखदाता वर माता।

Tulsi Mata ji ki Aarti

tulasi mata ki aarati
jay jay tulasi mata, sabaki sukhadata var mata.
sab yogon ke upar, sab rogon ke upar,
raj se raksha karake bhav traata.
bahu putri hai shyama, soor wali hai graamya,
vishnu priy jo tumako seve so nar tar jaata.
hari ke sheesh viraajat tribhuvan se ho vandit,
patit janon kee taarini tum ho vikhyaata.
lekar janm bijan mein, aayi divy bhavan mein,
maanav lok tumheen se sukh sampati paata.
hari ko tum ati pyaari shyaam varn sukumaari,
prem ajab hai shri hari ka tum se naata.
jay jay tulasi mata, sabaki sukhadata var mata.

कुछ अन्य देवी देवओ के आरती