Connect with us

Ambikapur News

Ambikapur News – पत्नी ने अच्छा खाना नहीं बनाया तो पति ने लगा ली फांसी, दोबारा बनाकर दिया लेकिन खाया ही नहीं

Published

on


Commits suicide: 10 दिनों से ड्यूटी पर नहीं गया था वनरक्षक, पत्नी से विवाद के बाद बिना खाना खाए कमरे में जाकर सो गया और आधी रात उसने फांसी (Hanging) लगा ली

अंबिकापुर. रात का खाना अच्छा नहीं बनने के कारण वन रक्षक व उसकी पत्नी के बीच विवाद हो गया। जब पत्नी ने दोबारा खाना बनाकर दिया तो पति ने नहीं खाया और सोने चला गया।

इसी बीच उसने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या (Commits suicide) कर ली। इस दौरान पत्नी बच्चे के साथ दूसरे कमरे में सो रही थी। वनरक्षक (Forest guard) की मौत से पत्नी व बच्चे समेत अन्य परिजन में मातम पसर गया है।

बलरामपुर जिले के वाड्रफनगर निवासी 30 वर्षीय ओम प्रकाश अंबिकापुर स्थित फुंदूरडिहारी में पत्नी व बच्चे के साथ रहता था। वह बलरामपुर वन विभाग (Forest department) के कुसमी सर्किल में वन रक्षक के पद पर पदस्थ था। वह 15 सितंबर को ड्यूटी से घर लौटने के बाद से दोबारा ड्यूटी नहीं गया था।

ये भी पढ़े: सुसाइड नोट में लिखा- मैं मरना चाहता हूं, मेरी मौत का जिम्मेदार…, फिर फार्मासिस्ट ने लगा ली फांसी

26 सितंबर की शाम को वह पत्नी (Wife) से बोला कि बाजार जा रहा हूं, जब रात में लौटा तो शराब पी रखी थी। पत्नी ने जब उसे खाना दिया तो कहा कि खाना अच्छा नहीं बना है, कैसे बनाती हो, इसके बाद वह उससे विवाद करने लगा।

पति की इस हरकत से परेशान होकर पत्नी ने फिर से खाना बनाया और परोसा लेकिन गुस्से में पति ने खाना नहीं खाया और कमरे में जाकर सो गया। इसी बीच पत्नी भी बच्चे को लेकर दूसरे कमरे में सो गई।

ये भी पढ़े: शहर के सबसे बड़े दवा व्यवसायी के पुत्र ने डेम में कूदकर की आत्महत्या, 4 घंटे बाद निकाली गई लाश

आधी रात फांसी पर लटकी देखी लाश
आधी रात जब पत्नी की नींद खुली तो वह उस कमरे में गई जहां पति सो रहा था। यहां उसने देखा कि पति फांसी के फंदे पर झूल (Commits suicide) रहा है। यह देखते ही वह जोर-जोर से शोर मचाने लगी। आवाज सुनकर पड़ोसी पहुंचे और उसे फंदे से उतारकर मेडिकल कॉलेज अस्पताल लेकर पहुंचे। यहां जांच पश्चात डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पसर गया मातम
वन रक्षक की मौत से जहां पत्नी व बच्चे का रो-रोकर बुरा हाल हेा गया, वहीं जब यह खबर वनरक्षक के घरवालों को लगी तो वह भागते हुए अंबिकापुर अस्पताल आ गए। यहां पीएम पश्चात पुलिस ने शव उन्हें सौंप दिया। वनरक्षक (Forest guard) की मौत से परिजनों में मातम पसरा हुआ है। इधर पुलिस मामले की विवेचना कर रही है।












Source link

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 930 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending