Connect with us

India News

Breaking News- बलरामपुर केस: गैंगरेप- मर्डर मामला और उलझा, दोनों पक्ष कर रहे हैं CBI जांच की मांग

Published

on


नई दिल्ली: यूपी के बलराम (Balrampur) में 29 सितंबर को लड़की से रेप और मर्डर का मामला उलझता जा रहा है. पीड़िता और आरोपी, दोनों के परिवार वालों ने इस मामले की निष्पक्ष जांच के लिए सीबीआई जांच की मांग की है.

29 सितंबर की सुबह कॉलेज पहुंची थी पीड़िता
मामले की पड़ताल में जुटी Zee News की टीम ने पीड़ित लड़की के कॉलेज जाकर पता किया. पता चला कि पीड़िता 29 सितंबर की सुबह कॉलेज आई थी. उसने बीकॉम थर्ड ईयर में एडमिशन का फॉर्म भरा और ₹6000 फीस जमा कराई. इसके बाद वह तकरीबन 11:30 बजे वहां से निकल गई. 

आरोपी का दावा, उसके साथ कॉलेज गई थी पीड़िता
आरोपी शाहिद के परिवार का दावा है कि उस दिन पीड़िता उनकी दुकान पर आई थी और फिर शाहिद को साथ लेकर कॉलेज में अपना एडमिशन कराने चली गई. वहां से वापसी के बाद वह शाहिद के साथ दुकान के पीछे बने कमरे में मौजूद थी. 

पीड़िता को दो दिन से पीट रही थी उसकी मां : आरोपी पक्ष
परिवार के मुताबिक पीड़िता ने शाहिद को बताया कि उसकी मां उसे पिछले 2 दिन से पीट रही है और खाना भी नहीं दे रही. उसी दौरान शाहिद का 12 साल का भांजा भी दुकान में पहुंचा हुआ था. उसने भांजे से नमकीन बिस्कुट मंगवाकर उसे दे दिए. लेकिन लड़की की हालत ठीक नहीं लग रही थी. उसने शाहिद के दवा दिलवाने के लिए कहा. यह देख शाहिद ने पड़ोस के एक डॉक्टर जिया उर रहमान को लड़की के इलाज के लिए बुलवाया. लेकिन डॉक्टर ने लड़की की हालत खराब देखकर इलाज करने से मना कर दिया.

कंपाउंडर को बुलाकर लगवाई ग्लूकोज ड्रिप
परिवार का दावा है कि इसके बाद शाहिद ने पड़ोस के एक कंपाउंडर लड़के को बुलाया. वह लड़का शाहिद का दोस्त है. उसने लड़की को ग्लूकोज चढ़ाया. इसके बावजूद लड़की की हालत में ज्यादा सुधार नहीं हुआ तो शाहिद ने अपने दूसरे 16 वर्षीय भांजे के साथ लड़की को एक रिक्शा पर रवाना कर दिया. परिवार का कहना है कि अगर शाहिद ने कोई अपराध किया होता तो वह लड़की को घर क्यों भेजता और उसका इलाज क्यों करवाता. परिवार वालों का यह भी दावा है कि लड़की के नाना ने रिक्शा वाले को ₹10 देकर रवाना भी किया था. 

आरोपी का दावा, पीड़िता से मिलना जुलना था
आरोपी शाहिद के परिवार वालों का दावा है कि पीड़िता और शाहिद के बीच में मिलना जुलना था. वह अक्सर उसकी दुकान पर आया करती थी. सूत्रों के मुताबिक पुलिस को दिए बयान में शाहिद ने यह कहा है कि लड़की से उसकी अक्सर फोन बात होती थी. यह बात लड़की के फोन कॉल रिकॉर्ड से भी साबित होती है. शाहिद ने पुलिस को बताया कि वह रोज पीड़िता के लिए ₹200 अलग जमा किया करता था. यह रकम अब  ₹32000 हो चुकी है. 

लखनऊ में चल रहा था पीड़िता का इलाज
 सूत्रों के मुताबिक शाहिद ने यह भी बताया कि लड़की पहले से बीमार चल रही थी और उसका लखनऊ में इलाज कराया जाता था. शाहिद के परिवार वालों ने दावा किया कि कुछ दिन पहले लड़की अपनी मां के साथ भी इलाज के लिए लखनऊ गई थी.आरोपी के परिवार का दावा है कि लड़की पहले से बीमार थी और मां ने उससे ज्यादा मारपीट कर दी. जिससे उसकी हालत खराब हो गई और उसकी जान चली गई.

ये भी पढ़ें– SUPER EXCLUSIVE: जी न्यूज ने ढूंढ निकाले TRP ‘बढ़ाने’ वाले लोग, ऐसे होती थी हेराफेरी

बेटी को गैंगरेप के बाद मारा गया: पीड़ित परिवार
 दूसरी तरफ लड़की के परिवार वालों का आरोप है कि उनकी बेटी की गैंगरेप के बाद बुरी तरह मारा गया. जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई. पीड़ित परिवार का कहना है कि इस अपराध में 2 से ज्यादा लोगों का हाथ है यानी परिवार का दावा है कि लड़की का गैंगरेप हुआ है. वे इस बात को मानने को तैयार नहीं है कि उसके साथ केवल शाहिद ने दुष्कर्म किया है. 

कई सवालों का नहीं मिल रहा है जवाब
फिलहाल इस मामले में कई सवाल अब भी अनसुलझे हैं. जिसे सुलझाने के लिए पुलिस मशक्कत कर रही है. दोनों ही पक्षों का कहना है कि इस मामले की सीबीआई जांच करवाई जानी चाहिए. तभी सच्चाई सामने आ सकेगी. 

LIVE TV



Source link

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 929 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending