Connect with us

India News

Breaking News- सोशल मीडिया पर आपकी भावनाओं की ‘मार्केटिंग’, Fake News से यूं कर रहे हैं कमाई

Published

on


नई दिल्ली: सोशल मीडिया (Social Media), इन दो शब्दों में आजकल पूरी दुनिया समाई हुई है. हम और आप हर दिन, हर  किसी न किसी रूप में सोशल मीडिया से जुड़े रहते हैं. फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम (Facebook, Twitter, Instagram) और यूट्यूब जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर हम बहुत वक्त बिताते हैं. लेकिन शायद आपको इस बात का एहसास नहीं कि सोशल मीडिया हमारी और आपकी निजी जिंदगी में किस तरह से सेंध लगा रहा है. 

सोशल मीडिया लोगों की प्राइवेसी के अधिकार का हनन कर रहा है और उनको इस बात का पता भी नहीं चल रहा है. हालात यहां तक पहुंच गए हैं कि लगता है कि जैसे सोशल मीडिया और लोकतंत्र के बीच लड़ाई चल रही है. सोशल मीडिया निरंकुश होता जा रहा है. लेकिन अब इस पर अंकुश लगाने की कवायद शुरू हो गई है. 

संयुक्त संसदीय समिति ने फेसबुक और ट्विटर को भेजा समन
संयुक्त संसदीय समिति ने फेसबुक और ट्विटर को समन भेजा है. दोनों कंपनियों को डेटा संरक्षण बिल पर चर्चा के लिए समन भेजा गया. समन का पालन करते हुए फेसबुक के अधिकारी शुक्रवार सुबह 11 बजे समिति के सामने पेश हुए. वहीं 28 अक्टूबर को ट्विटर के अधिकारी समिति के सामने पेश होंगे. माना जा रहा है कि समिति अमेजन और गूगल को भी समन भेज सकती है. 

केंद्र सरकार ने पिछले साल संसद में पेश किया था मसौदा
बता दें कि केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पिछले साल संसद में डेटा संरक्षण बिल का मसौदा को पेश करते समय कहा था कि ये बिल सरकार को फेसबुक, Google और अन्य कंपनियों से डेटा की जानकारी लेने का अधिकार देता है. विपक्षी दल कांग्रेस ने राष्ट्रीय सुरक्षा के मामलों में डेटा के उपयोग को लेकर चिंता जताई थी. कई कानूनी विशेषज्ञों ने यह कहकर सवाल खड़े किए थे कि इस प्रावधान से सरकार को लोगों के निजी डेटा की बेहिसाब पहुंच मिलेगी. बाद में इस मामले को मीनाक्षी लेखी की अध्यक्षता वाली संयुक्त संसदीय समिति को भेजा गया था. जिसने फेसबुक और ट्विटर को चर्चा के लिए बुलाया है. 

कोरोना काल में आपसी संपर्क का जरिया बना सोशल मीडिया
इस समय Covid-19 के संक्रमण की वजह से पूरी दुनिया में लोग Social Distancing का पालन कर रहे हैं. ऐसे में उनके बीच आपसी संपर्क के लिए सोशल मीडिया ही एकमात्र सहारा बना हुआ है.  
– भारत के लोगों का सबसे पसंदीदा Social Media Platform Facebook है. जिसके 35 करोड़ से ज्यादा Users हैं. यानी भारत में हर चौथा व्यक्ति Facebook का इस्तेमाल करता है.
– भारत में Facebook Users की संख्या दुनिया में सबसे ज्यादा है. और अनुमान है कि वर्ष 2023 तक ये Users बढ़कर 45 करोड़ हो जाएंगे .
– एक आम भारतीय हर दिन औसतन 3 से 4 घंटे सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता है और ये भी दुनिया में सबसे अधिक है. यहां सोशल मीडिया का मतलब Facebook, Twitter और Instagram से है.
– वर्ष 2019 और 2020 में 73 प्रतिशत Facebook Users की उम्र 18 से 24 वर्ष के बीच थी. 
– Facebook के बाद भारत के लोगों का दूसरा सबसे पसंदीदा Social Media Platform, WhatsApp है. जिसके 30 करोड़ से ज्यादा Users हैं. तीसरे नंबर पर Instagram है जिसको करीब 10 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं.

ट्विटर पर फेक न्यूज की रफ्तार 6 गुना ज्यादा तेज होती है
Massachusetts Institute of Technology की रिसर्च के मुताबिक मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है जिसे लोगों से मिलना जुलना, बातें करना और शेयर करना पसंद है. एक रिसर्च के मुताबिक Twitter पर Fake News की रफ्तार सच्ची ख़बरों से 6 गुना ज्यादा तेज़ होती है. Fake News फैलाने में इंसानों की रफ्तार Robots से भी ज्यादा होती है. अगर ये Fake News राजनीति से जुड़ी हो तो इसकी रफ्तार और बढ़ जाती है.

Advertisers से पैसा लेती हैं सोशल मीडिया कंपनी
शायद आप भी ये सोचते होंगे कि इंटरनेट पर मौजूद ये सोशल मीडिया Platforms के लिए आप पैसे नहीं चुकाते हैं. यानी Facebook, WhatsApp और Instagram जैसी सर्विसेज आपके लिए फ्री हैं. लेकिन सच्चाई ये है कि अलग-अलग Advertisers इन कंपनियों को पैसा देते हैं और सोशल मीडिया के ये प्लेटफॉर्म आपकी भावनाओं की मार्केटिंग भी करते हैं क्योंकि इनके पास आपका पूरा डेटा है. 

ऐसे समझिये सोशल मीडिया का आंकड़ा
– सिर्फ 60 सेकेंड में पूरी दुनिया में 3 लाख और भारत में करीब 30 हज़ार फेसबुक Posts शेयर किए जाते हैं.
– बहुत से Facebook Users बिना सोचे विचारे या अनजाने में Fake News को भी आपस में शेयर करते हैं. उससे भी Facebook की कमाई होती है.
– Data को अब दुनिया में नया Oil कहा जाता है. ये एक ऐसा Product है जिसकी मांग लगातार बढ़ रही है. वर्ष 2019  में भारत में Facebook ने 892 करोड़ और Google ने 4 हज़ार करोड़ से अधिक का बिजनेस किया. 
– फेसबुक का Net Worth 10 लाख करोड़ रुपए से भी ज्यादा है. वर्ष 2020 में भारत का रक्षा बजट करीब 3 लाख 37 हजार करोड़ रुपए है और ये उससे भी तीन गुना ज्यादा है. 
– इसी तरह Google का Net Worth 46 लाख करोड़ रुपए से अधिक है. भारत की अर्थव्यवस्था का आकार लगभग 146 लाख करोड़ रुपए है. यानी Google जैसी तीन कंपनियां भारत की अर्थव्यवस्था के बराबर हैं.
– आप कह सकते हैं कि इन कंपनियों में मौजूद Super computers में आपसे जुड़ी इतनी जानकारी है जितना शायद आपको भी अपने बारे में पता नहीं होगा. 

ये भी पढ़ें- चौतरफा दबाव से बौखलाया चीन, राष्ट्रपति जिनपिंग ने दिया यह बयान

सोशल मीडिया पर इन बातों का ध्यान रखें
ऐसे में ये सवाल उठ रहे हैं कि क्या सोशल मीडिया के लिए आचार संहिता बनाई जानी चाहिए. अगर आप सोशल मीडिया पर सक्रिय रहते हैं तो आपको इन 5 बातों का ध्यान रखना चाहिए.
– बहुत जरूरी न हो तो अपने सारे नोटिफिकेशंस OFF करके रखें. 
– गूगल के अलावा दूसरे सर्च इंजन का भी इस्तेमाल करें. 
– कभी भी किसी वीडियो को देखने के बाद suggested वीडियो न देखें.
– बिना कारण किसी पोस्ट को लाइक और शेयर नहीं करना चाहिए. 
– फेसबुक और Twitter को ये अनुमान न लगाने दें कि आपकी विचारधारा क्या है. 

LIVE TV



Source link

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 942 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending