Connect with us

Full Form

CBSE Full Form In Hindi — CBSE का Full Form

CBSE Full Form

CBSE Private तथा Public स्कूलों के लिए‌, भारत की एक राष्ट्रीय स्तर की Education Board है। इस Education Board को भारत सरकार द्वारा Control एवं Manage किया जाता है। यदि आप भी इस बोर्ड का हिस्सा होंगे, तो आप इन बातों से अवश्य परिचित होंगे। यदि नहीं! तो भी कोई चिंता का विषय नहीं है, क्योंकि हमने इस लेख में CBSE Full Form In Hindi या CBSE का Full Form एवं CBSE से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां आपके सामने रखने की कोशिश की है, CBSE की पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

CBSE का Full Form क्या है?

CBSE का Full Form‌ “Central Board Of Secondary Education” होता है, जिसका हिंदी अर्थ‌ या हिंदी Full Form “केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड” है।

CBSE Board क्या है?

CBSE यानी Central Board Of Secondary Education भारत की निजी और सार्वजनिक स्कूलों की शिक्षा बोर्ड है, जो Union Government of India यानी भारत सरकार के द्वारा नियंत्रण और प्रबंधित किया जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Central Board Of Secondary Education के अंतर्गत यानी CBSE से ‌Affiliated भारत में करीब 21,271 स्कूल है, और इसके अलावा 28 अलग देशों में यानी Foreign Countries में 220 ऐसे स्कूल हैं, जो कि CBSE से ‌Affiliated है।

CBSE Board की स्थापना आज से करीब 58 वर्ष पूर्व 3 नवंबर 1962 को हुई थी, मौजूदा वक्त में सीबीएसई का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। सीबीएसई बोर्ड में अंग्रेजी तथा हिंदी में पढ़ाई होती है, यानी इस बोर्ड के दो मुख्य भाषा (Official Language) है; अंग्रेजी तथा हिंदी।

CBSE 10वीं तथा 12वीं की परीक्षा कब लेता है?

CBSE 10वीं तथा 12वीं के Final परीक्षा को हर वर्ष मार्च के महीने में लेता है, और इन दोनों परीक्षाओं का परिणाम May महीने के आखिरी सप्ताह में जारी करता है। कुछ स्थितियों में परीक्षा एवं उनके परिणाम की तिथि आगे पीछे भी हो जाती है।

CBSE का अध्यक्ष कौन हैं?

CBSE के अध्यक्ष का नाम Manoj Ahuja है, जो कि एक IAS यानी Indian Administrative Service ऑफिसर हैं।

CBSE किन-किन स्कूलों को Affiliation देती है?

CBSE सारे Jawahar Navodaya Vidyalayas, Kendriya Vidyalayas, Public, एवं Private School को Affiliation देती है, जिनमें ज्यादातर स्कूलों को Approval यानी अनुमोदन Central Government of India यानी केंद्र सरकार द्वारा मिलती है।

CBSE Board का इतिहास।

भारत में सबसे पहला शिक्षा बोर्ड “Uttar Pradesh Board of High School and Intermediate Education” था, जिसे 1921 में Rajputana, Central India और Gwalior के द्वारा स्थापित किया गया था।‌ फिर इसी बोर्ड को 1929 में एक Joint Board बनाया गया जिसका नाम “Board of High School and Intermediate Education, Rajputana” था, जिसमें Ajmer, Merwara, Central India, और Gwalior भी जुड़े हुए थे। बाद में इसी केवल Ajmer, Bhopal, और Vindhya Pradesh तक सीमित कर दिया गया था, फिर इसी बोर्ड को भारत की आजादी के 5 वर्ष बाद 1952 में CBSE यानी Central Board Of Secondary Education नाम दे दिया गया, पर इसकी स्थापना 3 नवंबर 1962 को हुई थी।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply