Connect with us

Chattishgarh

Danteshwari Temple – माता दंतेश्वरी मंदिर बस्तर छत्तीसगढ़

नमस्कार दोस्तों आज इस पोस्ट मदद से आप लोगो को माँ दंतेश्वरी के बारे में बताऊंगा इस पोस्ट में हम दंतेश्वरी मंदिर से जुडी सभी जानकारी के बारे में बात करेंगे। दंतेश्वरी मंदिर में स्थित है यंहा का जगह दर्शन करने के लिए बहुत उत्तम है यंहा मांगी हुई सभी मन्नत पूरी होती है

दंतेश्वरी मंदिर (Danteshwari Temple), देवी दंतेश्वरी को समर्पित एक मंदिर है और पूरे भारत में फैले दिव्य स्त्री शक्ति के 52 शक्तिपीठों में से एक है। 14 वीं शताब्दी में निर्मित मंदिर, दंतेवाड़ा, जगदलपुर तहसील, छत्तीसगढ़ से 80 किमी दूर स्थित एक शहर है। दंतेवाड़ा का नाम देवी दंतेश्वरी के नाम पर रखा गया है, जो पहले के काकतीय शासकों के देवता थे। परंपरागत रूप से वह बस्तर राज्य की कुलदेवी (पारिवारिक देवी) है।

मंदिर किंवदंतियों के अनुसार, उस स्थान पर जहां सती के युग में तमाम शक्ति तीर्थ बनाए गए थे, इस प्रकरण के दौरान दानी या सती के दांत गिर गए थे।

छत्तीसगढ़ राज्य की राजधानी रायपुर से करीब 380 किलोमीटर दूर दंतेवाडा शहर स्थित है। यहां के डंकिनी और शंखिनी नदियों के संगम पर माँ दंतेश्वरी का मंदिर है। पुरातात्विक महत्व के इस मंदिर का पुनर्निर्माण महाराजा अन्नमदेव द्वारा चौदहवीं शताब्दी में किया गया था। आंध्रप्रदेश के वारंगल राज्य के प्रतापी राजा अन्नमदेव ने यहां आराध्य देवी माँ दंतेश्वरी और माँ भुवनेश्वरी देवी की प्रतिस्थापना की।

  • Temple – Danteshwari temple
  • Goddess- Danteshwari mata
  • Place – Dantewada
  • District – Batar
  • State – Chhattisgarh
  • Country – India

How to arrive, Danteshwari Temple, कैसे पहुंचे, दंतेश्वरी मंदिर,

माँ दंतेश्वरी के मंदिर तक सभी रास्तो से जाया जा सकता है यह जगदलपुर के पास है जिस वजह से आवागमन साधन आसानी मिल जाते है।

By Road – सड़क मार्ग द्वारा

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से देश के अन्य भागों से हवाई, रेल तथा सड़क मार्गों से सुव्यवस्थित जुड़ा हुआ है ! रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर से दंतेवाड़ा के लिए सड़क मार्ग द्वारा बहुतायत में लक्जरी स्लीपर बसों का संचालन होता है ! प्राइवेट टैक्सी द्वारा भी 7 घण्टे की यात्रा द्वारा रायपुर से पहँचा जा सकता है ! इसके अलावा आंध्र प्रदेश के विशाखापटनम , विजयवाड़ा एवं हैदराबाद से भी यह सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है । विशाखापटनम एवं हैदराबाद से सीधी नियमित बस सेवा है ।

By Train – रेल मार्ग द्वारा

दुर्ग , रायपुर , भुवनेश्वर एवं हावड़ा से जगदलपुर तक सीधी रेल सेवा है जहाँ से उतरकर 90 किमी टैक्सी अथवा यात्रीबस द्वारा पहुँचा जा सकता है । विशाखापटनम से भी किरंदुल पैसेन्जर से सीधे दंतेवाड़ा पहुँचा जा सकता है ! इस मार्ग पर चलने वाली एक मात्र पैसेंजर विशाखापटनम से सुबह रवाना होती है जो कई भूमिगत सुरंगो और प्रकृति की सुरम्य वादियों के बीच 14 घंटों में अपना सफर तय करती है जो स्वयं में एक अद्भुत अनुभव है ।

By Airplane -हवाई जहाज के द्वारा

माँ दंतेश्वरी मंदिर तक जाने के लिए छत्तीसगढ़ बाहर के लोग रायपुर हवाई अड्डा उतर कर वंहा से बस या ट्रैन या प्राइवेट गाड़ी बुक आसानी से माँ दंतेश्वरी दर्शन के लिए जाया जा सकता है

Reason of mata temple name

वैसे तो देवी पुराण में 51 शक्तिपीठों का ही जिक्र है, लेकिन कुछ स्थानीय मान्यताएं अलग कहानी कहती हैं। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा के दंतेश्वरी माता मंदिर को 52वां शक्तिपीठ भी गिना जाता है। मान्यता है कि यहां देवी सती का दांत गिरा था। इसी पर इस इलाके का नाम दंतेवाड़ा पड़ा।

The Story of Danteshwari Temple दंतेश्वरी मंदिर की कहानी

वारंगल में माँ भुनेश्वरी माँ पेदाम्मा के नाम से विख्यात है। एक दंतकथा के मुताबिक वारंगल के राजा रूद्र प्रतापदेव जब मुगलों से पराजित होकर जंगल में भटक रहे थे तो कुल देवी ने उन्हें दर्शन देकर कहा कि माघपूर्णिमा के मौके पर वे घोड़े में सवार होकर विजय यात्रा प्रारंभ करें और वे जहां तक जाएंगे वहां तक उनका राज्य होगा और स्वयं देवी उनके पीछे चलेगी, लेकिन राजा पीछे मुड़कर नहीं देखें।

वरदान के अनुसार राजा ने वारंगल के गोदावरी के तट से उत्तर की ओर अपनी यात्रा प्रारंभ की । राजा रूद्र प्रताप देव के अपने पीछे चली आ रही माता का अनुमान उनके पायल के घुँघरूओं से उनके साथ होने का अनुमान लगा कर आगे बढ़ता गया । राजिम त्रिवेणी पर पैरी नदी तट की रेत पर देवी के पैर पर घुंघरुओं की आवाज रेत में दब जाने के कारण बंद हो गई तो राजा ने पीछे मुड़कर देखा तो देवी ने उसे अपने वचन का स्मरण कराया और आगे साथ चलने में असमर्थता जाहिर की ।

राजा बड़ा दुखी हुआ किंतु देवी ने उसे एक पवित्र वस्त्र देकर कहा कि ये वस्त्र जितनी भूमि ढकेगी वही तुम्हारे राज्य का क्षेत्र होगा । इस प्रकार राजा ने वस्त्र फैला कर जितने क्षेत्र को ढका वही क्षेत्र पवित्र वस्त्र के ढकने के कारण बस्तर कहलाया । तत्पश्चात देवी राजा रूद्र प्रताप के साथ वापस बड़े डोंगर तक आई और राजा का तिलक लगाकर राज्याभिषेक किया और ये कहकर अंतर्ध्यान हो गई कि मैं तुम्हे स्वपन में दर्शन देकर बताऊँगी कि मैं कहाँ प्रकट होकर स्थापित हुँगी ।

तब वहाँ तुम मेरी पूजा अर्चना की व्यवस्था करना ! फरसगाँव के निकट ग्राम बड़े डोंगर में देवी दंतेश्वरी का प्राचीन मंदिर अवस्थित है । त्पश्चात राजा रूद्रप्रताप देव ने राज्य की राजधानी ग्राम मधोता में स्थापित की एवं कालांतर में उसके वंशज राजा दलपत देव ने स्थानांतरित कर जगदलपुर में की । आज भी राजवंश के नये सदस्य के राज्याभिषेक के लिए ग्राम मधोता से पवित्र सिंदूर लाकर राजतिलक किये जाने की परम्परा है ।

कुछ समय पश्चात माँ दंतेश्वरी ने राजा के स्वपन में दर्शन देकर कहा कि मैं दंतेवाड़ा के शंकनी-डंकनी नदी के संगम पर स्थापित हूँ । कहा जाता है कि माई दंतेश्वरी की प्रतिमा प्राक्टय मूर्ति है एवं गर्भ गृह विश्वकर्मा द्वारा निर्मित है । शेष मंदिर का निर्माण कालांतर में राजा द्वारा निर्मित किया गया । दंतेश्वरी मंदिर के पास ही शंखिनी और डंकिन नदी के संगम पर माँ दंतेश्वरी के चरणों के चिन्ह मौजूद है और यहां सच्चे मन से की गई मनोकामनाएं अवश्य पूर्ण होती है।

दंतेवाड़ा में माँ दंतेश्वरी की षट्भुजी वाले काले ग्रेनाइट की मूर्ति अद्वितीय है। छह भुजाओं में दाएं हाथ में शंख, खड्ग, त्रिशुल और बाएं हाथ में घंटी, पद्य और राक्षस के बाल मांई धारण किए हुए है। यह मूर्ति नक्काशीयुक्त है और ऊपरी भाग में नरसिंह अवतार का स्वरुप है। माई के सिर के ऊपर छत्र है, जो चांदी से निर्मित है। वस्त्र आभूषण से अलंकृत है। द्वार पर दो द्वारपाल दाएं-बाएं खड़े हैं जो चार हाथ युक्त हैं। बाएं हाथ सर्प और दाएं हाथ गदा लिए द्वारपाल वरद मुद्रा में है।

इक्कीस स्तम्भों से युक्त सिंह द्वार के पूर्व दिशा में दो सिंह विराजमान जो काले पत्थर के हैं। यहां भगवान गणेश, विष्णु, शिव आदि की प्रतिमाएं विभिन्न स्थानों में प्रस्थापित है। मंदिर के गर्भ गृह में सिले हुए वस्त्र पहनकर प्रवेश प्रतिबंधित है। मंदिर के मुख्य द्वार के सामने पर्वतीयकालीन गरुड़ स्तम्भ है। बत्तीस स्तम्भों और खपरैल की छत वाले महामण्डप मंदिर के प्रवेश के सिंह द्वार का यह मंदिर वास्तुकला का अनुपम उदाहरण है। इसलिए गर्भगृह में प्रवेश के दौरान धोती धारण करना अनिवार्य होता है। मांई जी का प्रतिदिन श्रृंगार के साथ ही मंगल आरती की जाती है।

माँ दंतेश्वरी मंदिर के पास ही उनकी छोटी बहन माँ भुनेश्वरी का मंदिर है। माँ भुनेश्वरी को मावली माता, माणिकेश्वरी देवी के नाम से भी जाना जाता है। माँ भुनेश्वरी देवी आंध्रप्रदेश में माँ पेदाम्मा के नाम से विख्यात है और लाखो श्रद्धालु उनके भक्त हैं। छोटी माता भुवनेश्वरी देवी और मांई दंतेश्वरी की आरती एक साथ की जाती है और एक ही समय पर भोग लगाया जाता है। लगभग चार फीट ऊंची माँ भुवनेश्वरी की अष्टड्ढभुजी प्रतिमा अद्वितीय है। मंदिर के गर्भगृह में नौ ग्रहों की प्रतिमाएं है। वहीं भगवान विष्णु अवतार नरसिंह, माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की प्रतिमाएं प्रस्थापित हैं। कहा जाता है कि माणिकेश्वरी मंदिर का निर्माण दसवीं शताब्दी में हुआ। संस्कृति और परंपरा का प्रतीक यह छोटी माता का मंदिर नवरात्रि में आस्था और विश्वास की ज्योति से जगमगा उठता है।

Explore Chhattisgarh all temples

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply