Connect with us

Jashpur News

Jashpur News – रेत के अवैध उत्खन्ना और परिवहन को लेकर जरिया में हुआ जमकर बवाल

Published

on


Publish Date: | Mon, 28 Sep 2020 04:32 PM (IST)

जशपुरनगर ( MyBagichaप्रतिनिधि)। सोमवार को शहर के नजदीकी गांव जरिया में रेत के अवैध उत्खनन और परिवहन को लेकर जमकर बवाल हुआ। लॉकडाउन के बीच रेत का परिवहन कर रहे दो ट्रैक्टर के विरूद्व कार्रवाई किए जाने के बाद शुरू हुए इस हंगामें में दोनों पक्ष एक दूसरे पर आरोप लगाते रहे। स्थानीय ग्रामीण,जहां रेत घाट का ठेका लेने वाले संचालक पर अवैध उगाही करने का आरोप लगा रहे थे,वहीं ठेकेदार,राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण की पाबंदी के बावजूद रेत का अवैध उत्खनन और परिवहन किए जाने से शासन को राजस्व का नुकसान होने और शिकायत के बावजूद कार्रवाई ना होने पर नाराजगी जताई है। इस पूरे मामले में एक बार फिर खनिज विभाग की निष्क्रियता उजागर कर दी है।

जानकारी के मुताबिक मामले को लेकर सोमवार की सुबह उस वक्त बवाल शुरू हुआ जब कोतवाली पुलिस ने ग्राम पंचायत जरिया के कुजरी नदी से अवैध उत्खनन कर लाए जा रहे दो ट्रैक्टर के खिलाफ कार्रवाई की। इसी दौरान कार्रवाई के विरोध में स्थानीय ग्रामीण सड़क में उतर आए। ग्रामीण अरविन्द कुमार ने बताया कि रेत उत्खन्ना के नाम पर कुछ लोगों द्वारा अवैध वसूली की जा रही है। उनका कहना था कि ठेकेदार के गुर्गे दबंगई करते हुए रेत परिवहन में जुटे वाहन से वसूली करते हैं और मजदूरों को परेशान करते हैं। इसी प्रकार मौके पर पहुंचे भवन निर्माण सामग्री आपूर्तिकर्ता राहुल कुमार गुप्ता का कहना था कि सरकारी ठेके की आड़ में अवैध वसूली का कारोबार गत तीन-चार माह से चल रहा है। जब कोई वाहन चालक अवैध वसूली का विरोध करता है,तो उसके खिलाफ कार्रवाई कराई जाती है। उन्होनें बताया कि सड़क में उतरे ग्रामीण इस अवैध वसूली को बंद किए जाने की मांग कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ मनोरा तहसील के रेत पट्टेदार शंभुनाथ दुबे का कहना था कि बरसात के दौरान एनजीटी के निर्देश के पर शासन ने 10 जून से 15 अक्टूबर तक नदियों से रेत के उत्खनन पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। बावजूद इसके कुजरी नदी में अवैध उत्खनन कर भारी पैमाने में इसका परिवहन किया जा रहा है। उन्होनें बताया कि इस मामले की लिखित शिकायत वे सिटी कोतवाली और मनोरा चौकी में कर चुके हैं। बावजूद इसके,अब तक ठोस कार्रवाई नहीं हो पाई है और धड़ल्ले से अवैध उत्खन्ना का कार्य किया जा रहा है। उन्होनें रायल्टी के नाम पर अवैध वसूली के ग्रामीणों के आरोप को खारिज कर दिया।

आला अधिकारियों के नाक के नीचे चल रहा है खेल

बारिश शुरू होते ही शहर समेत पूरे जिले में रेत की किल्लत शुरू हो जाती है। इस पूरे मौसम में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण 10 जून से 15 अक्टूबर तक पूरे देश में नदियों से रेत उत्खनन पर प्रतिबंध लगा रहा है। इस अवधि में केवल भंडारित रेत की बिक्री की अनुमति रहती है। जिला खनिज अधिकारी योगेश साहू ने बताया कि जिले में इस वक्त रेत की चार खदान और दो भंडार संचालित किए जा रहे हैं। उन्होनें बताया कि रेत खदान जिले के कांसाबेल के टांगरगांव में मैनी नदी पर,दुलदुला विकासखंड में सिरी नदी पर मनोरा विकासखंड के टेम्पू और चड़िया में लावा नदी में रेत खदान स्वीकृत किए गए हैं। खनिज विभाग का दावा है कि इन सभी स्वीकृत खदानों में एनजीटी के प्रतिबंध का पालन करते हुए उत्खनन पूरी तरह से बंद हैं। वहीं 8 ब्लॉक वाले जिले में सिर्फ दो रेत भंडारण संचालित किया जा रहा है। ये दोनों ही भंडारण जशपुर ब्लॉक में स्थित है। एक रेत भंडार का लाइसेंस ग्राम पंचायत गम्हरिया में शंभुनाथ दुबे और दूसरा ग्राम झरगांव में एनएच का निर्माण कर रही कंपनी शिवलाया कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रतिनिधि कुमार सुनिल के नाम से जारी किया गया है। खनिज विभाग के इन कागजी व्यवस्था के इतर,शहर के नजदीक स्थित कुजरी और डड़गांव से रोजाना तरकीबन 50 सौ 100 ट्रेक्टर रेत का अवैध परिवहन शहर और आसपास के इलाके में लगातार हो रहा है।

मजदूर और वाहन मालिक मुसीबत में फंसे

कोरोना संकट और लॉकडाउन ने वाहन मालिक और गौण खनिज परिवहन में मजदूरी करने वाले मजदूरों के सामने बड़ी मुसीबत खड़ी कर दी है। जरिया निवासी अरविंद कुमार ने बताया कि वित्तिय संस्थाओं से फाइनेंस कराए गए वाहनों की किश्त अदायगी में राहत का सरकारी दावा,का लाभ नहीं मिल पा रहा है। किश्त अदा करने के लिए उन पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। लेकिन रेत खदानों के बंद होने से उनका कारोबार पूरी तरह से बंद पड़ा हुआ है। ऐसे में उनके सामने वाहन के जब्त होने का संकट आ गया है। वहीं दूसरी ओर मजदूरों का कहना है कि रेत घाट बंद हो जाने से उनकी मजदूरी भी छिन जाने से भूखों मरने की नौबत आ गई है।

ये हैं जिले के स्वीकृत रेत खदान

1. हैप्पी अग्रवाल मैनी नदी टांगरगांव,कांसाबेल

2. अमित अग्रवाल सिरी नदी दुलदुला,दुलदुला

3. शंभुनाथ दुबे लावा नदी टेम्पू,मनोरा

4. किशन अग्रवाल लावा नदी चड़िया,मनोरा

इन्हें दी गई भंडारण की अनुमति

1. शंभुनाथ दुबे ग्राम गम्हरिया,जशपुर

2. कुमार सुनिल ग्राम झरगांव,जशपुर

वर्जन

एनजीटी के निर्देश के मुताबिक 10 जून से 15 अक्टूबर तक नदियों से रेत के उत्खन्ना पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अवैध उत्खन्ना के विरूद्व लगातार कार्रवाई की जा रही है॥

– योगेन्द्र साहू जिला खनिज अधिकारी जशपुर

Posted By: MyBagichaNews Network

MyBagichaई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

MyBagichaई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें MyBagichaऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ MyBagichaई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें MyBagichaऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ MyBagichaई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020

 



Source link

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 935 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending