Connect with us

Raipur News

News – का करंव

Published

on


का करंव? ये सुवाल हर नवजवान टूरा के मन म जरूर आथे। फेर, ये सुवाल मोर मन म कभु नइ आइच। एक दिन मेहा कबड्डी खेलत रहेंव। मोर संगवारी ह आके कहिस – राम तैं 12वीं पास होगेस। तोर बाबू ह बलात हे। मंय घर गेंव त कहिस- आईटीआई जा। मंय चल देंव। फेर, एक दिन प्रेक्टिकल म करेंट मारिस, तहां दुबारा नइ गेंव। बाबू ह खिसियाइस अउ कालेज भेज दिस। उहां घूमे के चक्कर म फेल होगेंव। अब बाबू-दाई दूनों बौरागे।
दाई कपड़ा धोय बर बंद कर दिस। बाबू खेत म काम कराय। फेर, मंय काम नइ कर सकेंव। बाबू ह किराना दुकान म काम करे बर भेज दिस। एक दिन एकझन गुरुजी ह सामान लेय बर आइस। तब दूझन चोरमन वोकर पइसा ल लूटत रहंय। मेहा दूनों चोर ल पक लेंव। गुरुजी मोहा कहिस- कबड्डी खेलबे। मेहा तुरते हव कहिदेंव। काम छोड़ के घर गेंव त बाबू ह मोला दू थपरा दे दिस। दाई घलो अब्बड़ खिसियाइस।
पहिली पइत मेहा बाबू ल जवाब देंव। सब काम ल तो तुहंर मन के करें हंव। एक घंव मोला मोर मन के करके देखन दव। बाबू कुछु नइ कहिस- फेर, मंय कबड्डी खेले जाए लगेंव। उहां मोर खेल ल देख के सब खुस होगिन। मोला तो पता घलो नइ रिहिस के मेला अतेक बढिय़ा कबड्डी खेलथंव। धीरे-धीरे मेहा बड़का खिलाड़ी बन गेंव। बाबू ह मोर ऊपर गरब करथे। अब दाई ह नइ, नौकरानी ह कपड़ा धोथे।
संगवारी हो, हर मनखे के भीतर कलाकार होथे। फेर, कला के पता घर म बइठ के नइ चलय। मैदान म जाए ल परथे। मंय सब काम करेंव, फेर मोर काम कबड्डी रिहिस। घर म बइठ के सोचबे त मंजिल बस दिखथे अउ घर ले निकल के चलब तो रद्दा दिखथे।



Source link

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 27 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending