Connect with us

Raipur News

News – कोरोना काल में जंगल सफारी की माली हालत खराब, शेर-हिरण की खुराक पर भी संकट

Published

on


कोरोना काल से पूर्व जंगल सफारी के मांसाहारी और शाकाहारी वन्य प्राणियों को खाना की सप्लाई देने वाले ठेकेदारों को एक माह के बाद भुगतान हो जाता था। भुगतान समय पर होने का प्रमुख कारण प्रबंधन की आय थी। प्रबंधन को वन विभाग से पैसा नहीं मांगना पड़ता था। वर्तमान में कोरोना काल की वजह से पर्यटकों की संख्या में कमी आई है।

रायपुर. जंगल सफारी में विचरण कर रहे वन्यप्राणियों के भोजन पर संकट मंडराता दिख रहा है। कोरोना संक्रमण की वजह से जंगल सफारी प्रबंधन की आर्थिक स्थिति खराब हो गई। पैसों की कमी के कारण सफारी के वन्य प्राणियों को खाना सप्लाई करने वाले ठेकेदारों का भुगतान अटका हुआ है। ठेकेदारों ने सफारी प्रबंधन से भुगतान जल्द करने अन्यथा सप्लाई रोकने की बात कही है। सफारी प्रबंधन के अधिकारियों ने वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा करके समस्या का समाधान निकालने और भुगतान जल्द करने का आश्वासन दिया है।

3 माह से बाकी है भुगतान

वन विभाग के अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना काल से पूर्व जंगल सफारी के मांसाहारी और शाकाहारी वन्य प्राणियों को खाना की सप्लाई देने वाले ठेकेदारों को एक माह के बाद भुगतान हो जाता था। भुगतान समय पर होने का प्रमुख कारण प्रबंधन की आय थी। प्रबंधन को वन विभाग से पैसा नहीं मांगना पड़ता था। वर्तमान में कोरोना काल की वजह से पर्यटकों की संख्या में कमी आई है।

कोरोनाकाल में भी 700 करोड़ से ज्यादा का दिवाली बोनस, त्योहार में भरी होंगी जेबें

इसका सीधा असर सफारी की कमाई पर पड़ा है। पैसा नहीं आने से प्रबंधन पूरी तरह से वन विभाग के भरोसे हो गया है। प्रबंधन के जिम्मेदार बिल भेजते है, तो पैसों की कमी के चलते पेंडिंग में डाल दिया जाता है। बिल पेंडिंग होने से समय पर भुगतान नहीं हो पाता, जिसका असर अब ठेकेदारों पर पडऩे लगा है।

कर्मचारियों का भुगतान भी लेट

जंगल सफारी में संविदा में रखे गए लगभग ७० कर्मचारियों का भार भी अब वन विभाग पर आ गया है। संविदा नियुक्ति पर रखे गए, इन कर्मचारियों को कलक्ट्रेट दर पर भुगतान दिया जाता है। कोरोना काल से पूर्व हर माह की १ से ७ तारीख के बीच भुगतान कर दिया जाता था। कोरोना संक्रमण का प्रकोप बढऩे के बाद महीनों से तनख्वाह दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को नहीं मिली है। कर्मचारियों ने पूर्व मंे प्रदर्शन किया था, तो अफसरों ने जुलाई-अगस्त का भुगतान समय पर किया। सितंबर और अक्टूबर में फिर से कई कर्मचारियों का भुगतान अटका दिया गया है।
ये वन्य प्राणी सफारी में

जंगल सफारी में वर्तमान में बाघ, शेर, सफेद बाघ, तेंदुआ, दरियाई घोड़ा, मगरमच्छ, हिरण और भालू समेत अन्य वन्य प्राणियों का रखा गया है। इन वन्य प्राणियों के भोजन में मंथली खर्च लाखों रुपए का होता है। यह खर्च पूर्व में पर्यटकों के आने से निकल जाता था। वर्तमान में इक्का-दुक्का पर्यटक आ रहे है। इसका सीधा असर वन विभाग के खजाने पर पड़ रहा है।

कोरोना के कारण कुछ भुगतान समय पर नहीं हो पा रहे है। मैने वरिष्ठ अधिकारियों को इन मामलों से अवगत कराया है। ज्यादा जानकारी के लिए आप उनसे बात कर लीजिए।

-एम. मर्सीबेला, डायरेक्टर, जंगल सफारी

ये भी पढ़ें: 11 करोड़ जेब में पर नहीं बना मल्टीलेवल पार्किंग, व्यवस्था चौपट









Source link

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 936 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending