Connect with us

Raipur News

News – कोरोना का तांडव: पिछले 10 दिन से रोजाना हो रही 28 मौतें, मृतकों में 19 से 84 साल तक के मरीज

Published

on


स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक सांस की तकलीफ से मरने वालों की संख्या ज्यादा है। यानी मरीज को सांस लेने में कठिनाई तो हो रही है मगर उसकी समय पर कोरोना जांच नहीं हो पा रही, समय पर इलाज नहीं मिल पा रहा और वह दम तोड़ दे रहा है।

रायपुर. प्रदेश में कोरोना वायरस अब मौत का तांडव कर रहा है। अक्टूबर के 10 दिनों में रोजाना 28 मौतें हो रही हैं, जो सितंबर की तुलना में हर रोज ७ से अधिक हैं। जब संक्रमित मरीजों की संख्या में गिरावट आ रही है, होम आइसोलेशन से स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या में खासी वृद्धि हुई और अस्पतालों पर भार कम हुआ तो फिर मौतों का सिलसिला क्यों नहीं टूट रहा? यह बड़ा सवाल है।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक सांस की तकलीफ से मरने वालों की संख्या ज्यादा है। यानी मरीज को सांस लेने में कठिनाई तो हो रही है मगर उसकी समय पर कोरोना जांच नहीं हो पा रही, समय पर इलाज नहीं मिल पा रहा और वह दम तोड़ दे रहा है। इस पर रोकथाम के लिए कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे अभियान से घर-घर दस्तक देकर ऐसे मरीजों की पहचान की जा रही है। मौतों के मामले रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर संभाग में सर्वाधिक सामने आ रहे हैं, जहां बेहतर चिकित्सकीय सुविधाएं हैं।

प्रदेश में पहली बार किसी मंत्री की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव, प्रदेश में 2233 संक्रमित

क्या मितानिन नहीं दे सकती हैं गंभीर मरीजों की जानकारी

अगर, विभाग यह मान रहा है कि मरीज समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पा रहे तो ऐसा कोई सिस्टम क्यों नहीं विकसित किया जाता कि मरीज को समय पर अस्पताल लाया जा सके। क्या मितानीनों, एएनएम की मदद बुजुर्गों या गंभीर मरीजों की पहचान करने में नहीं ली जा सकती। विशेषज्ञ मानते हैं कि ऐसा संभव है।

 

मृतकों में 19 से 84 साल तक के मरीज

प्रदेश में कोरोना से मरने वालों में 50 साल से अधिक आयुवर्ग के मरीजों की संख्या सर्वाधिक है। अक्टूबर में हुई मौतों में 19 साल का युवा, 30 साल की महिला और 84 साल के बुजुर्ग शामिल हैं। 279 मृतकों में 20 ऐसे भी मरीज थे, जिनकी उम्र ७० वर्ष या उससे अधिक थी।

इलाज के अभाव में मौतें हो रही हैं ऐसे कम ही मामले हैं। विभाग की अपील है कि लक्षण दिखाने पर जांच करवाने में देरी न करें। खासकर बुजुर्गों को लेकर लापरवाही न बरतें।

-डॉ. सुभाष पांडेय, प्रवक्ता एवं संभागीय संयुक्त संचालक, स्वास्थ्य विभाग

ये भी पढ़ें: अगर मैं आदिवासी नहीं हूं, तो आखिर मेरी जाति क्या है-अमित जोगी



Source link

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 935 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending