Connect with us

Raipur News

News – यूपी-बिहार के कारोबारियों ने छत्तीसगढ़ की सब्जी मंडी में जमाया डेरा, जानिए वजह

Published

on


– महंगाई (Vegetable price hike) के चलते छत्तीसगढ़ में पहुंचे यूपी-बिहार के कारोबारी
– 30-40 ट्रक रोजाना दूसरे राज्यों में सप्लाई

रायपुर. यूपी-बिहार में सब्जियों की भारी महंगाई (Vegetable price hike) के बाद अब वहां के कारोबारियों ने राजधानी की सब्जी मंडी और किसानों की बाड़ियों में डेरा जमा लिया है, और यहां से बड़ी मात्रा में रोजाना 30-40 ट्रक सब्जियों की सप्लाई दीगर प्रदेशों में की जा रही है। सब्जियों की महंगाई ने जहां लोगों की जेबे ढ़ीली कर दी है, वहीं अभी एक महीने तक राहत की भी उम्मीद दिखाई नहीं दे रही है। सब्जियों की कीमतें बीते एक महीने से कम होने का नाम नहीं ले रही है।

राजधानी में ड्रग कनेक्शन बेनकाब: पत्नी आयोजित करती थी पार्टी और उसमें पति बेचता था कोकिन

कारोबारियों के मुताबिक अंदाजा पत्ता गोभी की कीमत से लगाया जा सकता है, जो कि अक्टूबर महीने में हर साल 10 से 15 रुपए किलो रहती थी। बाजार अब कीमतें 30 से 40 रुपए हो चुकी है। थोक कारोबारियों के मुताबिक बेमौसम बारिश की वजह से सब्जियों की कीमतों पर बड़ा प्रभाव पड़ा है, वहीं यूपी, बिहार में सबसे ज्यादा तबाही हुई और सब्जियों की फसल चौपट हो गई।

नवरात्रि से पहले कोलकाता जाने वाले रेल यात्रियों के लिए अच्छी खबर, पुणे से चलेगी ये स्पेशल ट्रेन

किसानों को 10 से 15 हजार ज्यादा कीमत
दीगर प्रदेशों में कम से कम 30 से 40 ट्रक सब्जियों का निर्यात किया जा रहा हैं,वहीं स्थानीय किसानों को मुंह मांगी रकम दी जा रही है। दीगर राज्यों के कारोबारी स्थानीय मंडियों के भाव के मुकाबले 4 से 5 रुपए प्रति किलो ज्यादा कीमत दे रहे हैं। ऐसे में किसानों में एक ट्रक में 10 से 15 हजार रुपए की अतिरिक्त आवक हो रही है। थोक सब्जी बाजार डूमरतराई के कारोबारियों का कहना है कि यदि यह सब्जियां थोक मंडी में आती तो कीमतों से कुछ राहत मिलती।

छत्तीसगढ़ के मंत्री की फर्जी फेसबुक ID बनाकर, साइबर ठगों ने दोस्त के इलाज के लिए मांगे 20 हजार

दिवाली के बाद उम्मीद
थोक सब्जी बाजार डूमतराई के अध्यक्ष श्रीनिवास रेड्डी ने बताया कि वर्तमान हालातों के मद्देनजर दिवाली के बाद ही राहत की उम्मीद जताई जा रही है। सितंबर महीने तक बारिश की वजह से स्थानीय फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है। दोबारा फसल लगाई गई है, जो कि दो से तीन महीने बाद आ रही है। इसलिए संभावित हैं कि दिवाली के बाद स्थानीय सब्जियों की आवक शुरू होने के बाद राहत मिलेगी।

कीमतों पर एक नजर
सब्जी- थोक-चिल्हर
टमाटर- 24-25-40-50
गोभी-40-50-60-80
करेला-40-50-70-80
परवल-30-40-50-60
बरबट्टी- 18-20-30-40
बैगन-(20)-30-40
पत्ता गोभी-28-30-(40)
धनिया-120-150-180-200
अदरक-50-60-80-100
(नोट-कीमतें थोक बाजार और प्रमुख चिल्हर बाजारों के कारोबारियों के मुताबिक)










Source link

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 930 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending