Connect with us

Raipur News

News – लोगनमन म जागरुकता जरूरी हे

Published

on


मनखेपन म रहे बर परही

तिहारू अपन संगवारीमन ल बतावत रहिस- कोरोना महामारी ले बाचे बर सरकार ह कईठिन नियम बनाय हे। लोगनमन ल घेरी-बेरी चेतावत हे। कोरोना महामारी के रोकथाम खातिर लॉकडाउन करे गे रिहिस। ऐकर मतलब हे कि कोरोना बीमारी से बाचे बर सबो मनखे ल जागरूक होय बर परही। हमन ल उपाय करे बर परही। जइसे – एकदम जरूरी काम हे तभे घर ले बाहिर निकले बर चाही। जावत बेरा अपन मुंह-नाक ल कपड़ा म बने तोप ले बर चाही। मास्क लगाय बर चाही।
तिहारू कहिस- अस्पताल, दवई दुकान म सेनिटाइजर नाव के तेल मिलथे वोला दूनों हथेली म चुपरे बर हे। घर म जउन नहाय के साबुन रहिथे वोमा दूनों हाथ ल रगड़-रगड़ के धोय बर हे। सबले जरूरी बात ये हे के भीड़भाड़ वाले जगा म नइ जाय बर हे। एक-दूसर ले तीन फीट दूरिहा म रहे बर हे। थोरकन घला सरदी, खांसी जान परत हे त सबसे पहली अपन गांव के नजदीकी डाक्टर ल बताय बर हे अउ वोकर बताय मुताबिक रहे बर हे। तभे ये कोरोना महामारी ले हमरमन के बचाव होही।
जी वलेवा कोरोना के बखत म बड़ बदलाव होवत हे। मनखे के जिए के तरीका म अंतर दिखे लागिस। ये दुनिया ह मनखे के बपौती नोहय। धरती, अगास, पताल म जतका जीव हावय सबो के बरोबरी हक हे। मनखे अपन दिमाग के बल म किसम- किसम के मंत्र, तंत्र अउ यंत्र बना डरे हे। वोकरे बल म वोहा कभु-कभु अपन-आप ल भगवान माने के गलती कर डरथे। तइहां के कथा-कहिनी म बताए गे हे के- ‘सहसबाहू दसबदन आदि नृप, बचे न काल कलीते। हंू हंू कर धन धान संवारे, अंत चले उठ रीते।Ó धन, जन अउ मूड़ म घमंड नइ करे बर चाही।
जेमन अहंकार के घोड़ा म चघके अति करिन तेकर अंत घलो होगे। अइसे नइये के ये सबला मनखे नइ जानंय। तभो जियत ले सोचथे के ‘मैं न मरौ, मरिहै संसाराÓ अउ अपन सीमा छोड़ के दूसर के हक घलो म नीयत खराब करथे। कुछ गलती तो अइसे रहिथे जेकर सजा अवइया पीढ़ी ल भोगे ल परथे। सीखे के बात अतके हे के हमन ल अपन मनखेपन ल छोड़े बर नइ चाही। सरकार के चेतावनी के पालन करिन। बड़े बड़े बवंडर घलो थिरा जथे। मनखे ह कोरोना ल घलो जल्दी मात दिही।



Source link

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 921 other subscribers

Recent Posts

Facebook

Categories

Our Other Site

Trending