Raipur News – गर्मी का कहर : रायपुर में तापमान 44 डिग्री सेल्सियस पहुंचा, सीजन का सबसे गर्म दिन

0


आईएमडी ने जारी की चेतावनी- अगले पांच दिनों तक छत्तीसगढ़ में रहेगी हीटवेव की स्थिति

रायपुर. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में शनिवार को सीजन के सबसे गर्म दिन के रूप में दर्ज किया गया। प्रदेश के कुछ हिस्सों में तापमान 44 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया। मौसम विभाग के अनुसार गर्म हवा चलने के कारण यह तपिश देखने को मिली है। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में माना इलाका का उच्चतम तापमान 44 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो इस सीजन का सबसे गर्म दिन रहा। मौसम विभाग के अनुसार पश्चिम बंगाल और आडिशा में आए चक्रवात अम्फान के बाद उत्तर और मध्य भारत के तापमान में वृद्धि हुई है।
इसी तरह रायपुर शहर का तापमान 43.6, बिलासपुर का तापमान 43.2 डिग्री दर्ज किया गया जो सामान्य से एक डिग्री कम है। पेड्रारोड के तापमान में एक डिग्री का इजाफा हुआ है। यहां का तापमान 40.7 डिग्री ,अंबिकापुर में सामान्य से एक डिग्री कम यहां का तापमान 38.6 दर्ज किया गया है। वहीं जगदलपुर के तापमान में सबसे अधिक बदलाव हुआ है। यहां का तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक 40.9 डिग्री, दुर्ग का तापमान सामान्य रहा और 43.6 डिग्री और राजनांदगांव का तापमान 42.2 जो सामान्य से 2 डिग्री अधिक रहा। छत्तीसगढ़ में सबसे कम तापमान अंबिकापुर का रहा।

मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जब चक्रवात बंगाल की खाड़ी में बनता है तो हवा उत्तर-पश्चिम से समुद्र तट की ओर बहती है। इस समय छत्तीसगढ़, मप्र, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, बिहार और दिल्ली तक गर्म हवाएं चल रही हैं जिससे अधिकतम तापमान के कारण गर्मी बढ़ी है।” आईएमडी ने यह भी चेतावनी दी है कि अगले पांच दिनों तक छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में हीटवेव की स्थिति बनी रहेगी।

स्काईमेट की चेतावनी 27 मई तक रहेगा गर्मी का असर
इधर, निजी पूवार्नुमान लगाने वाली एजेंसी स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष महेश पलावत ने कहा कि 27 मई तक देशभर में शुष्क और गर्म हवाएं चलेंगी। मई में ही नहीं, बल्कि जून में भी देश के कई हिस्सों में गर्मी का असर बढ़ सकता है। आईएमडी ने यह भी चेतावनी दी है कि अगले पांच दिनों तक छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में हीटवेव की स्थिति बनी रहेगी। हीटवेव को तब घोषित किया जाता है जब लगातार दो दिनों के लिए अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस और गंभीर हीटवेव तब होता है जब पारा दो दिनों के लिए 47 डिग्री सेल्सियस के पैमाने को छू लेता है।

25 मई से नौतपा शुरू
सूर्य के रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश के साथ ही इसकी शुरुआत होगी। आमतौर पर नौतपा में तेज गर्मी होती है। इन नो दिनों में सूर्य पृथ्वी के सबसे करीब होगा है। इस वजह से गर्मी बढ़ती है। इस बार अप्रैल और मई महीने में रुक-रुक कर बारिश होती रही। नौतपा के बीच और जून महीने में तेज गर्मी की संभावना है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here