Mandir – Munsi Premchand ki Kahani (मन्दिर – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मन्दिर मातृ-प्रेम, तुझे धन्य है ! संसार में और जो कुछ है, मिथ्या है, निस्सार है। मातृ-प्रेम ही सत्य है, …

Read moreMandir – Munsi Premchand ki Kahani (मन्दिर – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Dhikkar 2 – Munsi Premchand ki Kahani (धिक्कार 2– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

धिक्‍कार 2 अनाथ और विधवा मानी के लिए जीवन में अब रोने के सिवा दूसरा अवलम्‍ब न था । वह …

Read moreDhikkar 2 – Munsi Premchand ki Kahani (धिक्कार 2– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Dhikkar – Munsi Premchand ki Kahani (धिक्कार – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

ईरान और यूनान में घोर संग्राम हो रहा था। ईरानी दिन-दिन बढ़ते जाते थे और यूनान के लिए संकट का …

Read moreDhikkar – Munsi Premchand ki Kahani (धिक्कार – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Dharamsankat – Munsi Premchand ki Kahani (धर्मसंकट – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

धर्मसंकट ‘पुरुषों और स्त्रियों में बड़ा अन्तर है, तुम लोगों का हृदय शीशे की तरह कठोर होता है और हमारा …

Read moreDharamsankat – Munsi Premchand ki Kahani (धर्मसंकट – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Do Sakhiya – Munsi Premchand ki Kahani (दो सखियाँ – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

दो सखियाँ लखनऊ 1-7-25 प्यारी बहन, जब से यहाँ आयी हूँ, तुम्हारी याद सताती रहती है। काश! तुम कुछ दिनों …

Read moreDo Sakhiya – Munsi Premchand ki Kahani (दो सखियाँ – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Do Bhai – Munsi Premchand ki Kahani (दो भाई – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

दो भाई प्रातःकाल सूर्य की सुहावनी सुनहरी धूप-में कलावती दोनों बेटों को जाँघों पर बैठा दूध और रोटी खिलाती थी। …

Read moreDo Bhai – Munsi Premchand ki Kahani (दो भाई – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Do Bailo ki katha– Munsi Premchand ki Kahani (दो बैलों की कथा – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

जानवरों में गधा सबसे ज्यादा बुद्धिमान समझा जाता है। हम जब किसी आदमी को पहले दर्जे का बेवकूफ कहना चाहते …

Read moreDo Bailo ki katha– Munsi Premchand ki Kahani (दो बैलों की कथा – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Dil ki Rani– Munsi Premchand ki Kahani (दिल की रानी – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

दिल की रानी जिस वीर तुर्कों के प्रखर प्रताप से ईसाई दुनिया कौप रही थी , उन्‍हीं का रक्‍त आज …

Read moreDil ki Rani– Munsi Premchand ki Kahani (दिल की रानी – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Devi 2 – Munsi Premchand ki Kahani (देवी 2 – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

देवी – एक लघु कथा प्रेमचन्द जी ने देवी नाम से दो कहानियाँ लिखी हैं। दूसरी कहानी पढ़ने के लिए …

Read moreDevi 2 – Munsi Premchand ki Kahani (देवी 2 – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Devi – Munsi Premchand ki Kahani (देवी – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

देवी बूढ़ों में जो एक तरह की बच्चों की-सी बेशर्मी आ जाती है वह इस वक्त भी तुलिया में न …

Read moreDevi – Munsi Premchand ki Kahani (देवी – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)