Motar ke Chhinte– Munsi Premchand ki Kahani (मोटर के छींटे – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मोटर के छींटे क्या नाम कि प्रातःकाल स्नान-पूजा से निपट, तिलक लगा, पीतांबर पहन, खड़ाऊँ पाँव में डाल, बगल में …

Read moreMotar ke Chhinte– Munsi Premchand ki Kahani (मोटर के छींटे – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Maiku – Munsi Premchand ki Kahani (मैकू – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मैकू कादिर और मैकू ताड़ीखाने के सामने पहूँचे; तो वहॉँ कॉँग्रेस के वालंटियर झंडा लिए खड़े नजर आये। दरवाजे के …

Read moreMaiku – Munsi Premchand ki Kahani (मैकू – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Mahatirth – Munsi Premchand ki Kahani (महातीर्थ – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

महातीर्थ मुंशी इंद्रमणि की आमदनी कम थी और खर्च ज्यादा। अपने बच्चे के लिए दाई रखने का खर्च न उठा …

Read moreMahatirth – Munsi Premchand ki Kahani (महातीर्थ – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Mandir – Munsi Premchand ki Kahani (मन्दिर – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मन्दिर मातृ-प्रेम, तुझे धन्य है ! संसार में और जो कुछ है, मिथ्या है, निस्सार है। मातृ-प्रेम ही सत्य है, …

Read moreMandir – Munsi Premchand ki Kahani (मन्दिर – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Dhikkar 2 – Munsi Premchand ki Kahani (धिक्कार 2– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

धिक्‍कार 2 अनाथ और विधवा मानी के लिए जीवन में अब रोने के सिवा दूसरा अवलम्‍ब न था । वह …

Read moreDhikkar 2 – Munsi Premchand ki Kahani (धिक्कार 2– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Dhikkar – Munsi Premchand ki Kahani (धिक्कार – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

ईरान और यूनान में घोर संग्राम हो रहा था। ईरानी दिन-दिन बढ़ते जाते थे और यूनान के लिए संकट का …

Read moreDhikkar – Munsi Premchand ki Kahani (धिक्कार – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Dharamsankat – Munsi Premchand ki Kahani (धर्मसंकट – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

धर्मसंकट ‘पुरुषों और स्त्रियों में बड़ा अन्तर है, तुम लोगों का हृदय शीशे की तरह कठोर होता है और हमारा …

Read moreDharamsankat – Munsi Premchand ki Kahani (धर्मसंकट – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Do Sakhiya – Munsi Premchand ki Kahani (दो सखियाँ – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

दो सखियाँ लखनऊ 1-7-25 प्यारी बहन, जब से यहाँ आयी हूँ, तुम्हारी याद सताती रहती है। काश! तुम कुछ दिनों …

Read moreDo Sakhiya – Munsi Premchand ki Kahani (दो सखियाँ – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Do Bhai – Munsi Premchand ki Kahani (दो भाई – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

दो भाई प्रातःकाल सूर्य की सुहावनी सुनहरी धूप-में कलावती दोनों बेटों को जाँघों पर बैठा दूध और रोटी खिलाती थी। …

Read moreDo Bhai – Munsi Premchand ki Kahani (दो भाई – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Do Bailo ki katha– Munsi Premchand ki Kahani (दो बैलों की कथा – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

जानवरों में गधा सबसे ज्यादा बुद्धिमान समझा जाता है। हम जब किसी आदमी को पहले दर्जे का बेवकूफ कहना चाहते …

Read moreDo Bailo ki katha– Munsi Premchand ki Kahani (दो बैलों की कथा – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)