Connect with us

Mantra

Shri Kalbhairav Stotram – श्री कालभैरव स्तोत्र

श्री कालभैरव स्तोत्र

नमो भैरवदेवाय नित्यायानंद मूर्तये ।
विधिशास्त्रांत मार्गाय वेदशास्त्रार्थ दर्शिने ॥ १ ॥

दिगंबराय कालाय नम: खट्वांग धारिणे ॥
विभूतिविल सद्भाल नेत्रायार्धेंदुमोलिने ॥ २ ॥

कुमारप्रभवे तुभ्यं बटुकाय महात्मने ।
नमोsचिंत्य प्रभावाय त्रिशूलायुधधारिणे ॥ ३ ॥

नमः खड्गमहाधार ह्रतत्रैलोक्य भितये ।
पुरितविश्र्व विश्र्वाय विश्र्वपालायते नमः ॥ ४ ॥

भुतावासाय भूताय भूतानां पतये नमः ।
अष्टमूर्ते नमस्तुभ्यं कालकालायते नमः ॥ ५ ॥

कंकाला याति घोराय क्षेत्रपालाय कामिने ।
कलाकाष्ठादिरुपाय कालाय क्षेत्र वासीने ॥ ६ ॥

नमः क्षत्रजित तुभ्यं विराजे ज्ञानशालिने ।
विधानां गुरवे तुभ्यं निधीनांपतये नमः ॥ ७ ॥

नमः प्रपंच दोर्दंड दैत्यदर्प विनाशिने ।
निज भक्तजनोद्दाम हर्ष प्रवर दायिने ॥ ८ ॥

नमो दंभारिमुख्याय नामैश्र्वर्याष्ट दायिने ।
अनंत दुःख संसार पारावारांत दर्शने ॥ ९ ॥

नमो दंभाय मोहाय द्वेषायोच्चोटकारिणे ।
वशंकराय राजन्य मौलिन्यस्य निजांघ्रये ॥ १० ॥

नमो भक्तापदा हंत्रे स्मृतिमात्रार्थ दर्शिने ।
आनंदमूर्तये तुभ्यं स्मशान निलयायते ॥ ११ ॥

वेताळभूत कुश्मांड ग्रहसेवा विलासिने ।
दिगंबराय महते पिशाचाकृति शालिने ॥ १२ ॥

नमो ब्रह्मादिभिर्वंद्द पदरेणु वरायुषे ।
ब्रह्मादि ग्रास दक्षाय निःफलाय नमो नमः ॥ १३ ॥

नमः काशीनिवासाय नमो दंडकवासिने ।
नमोsनंत प्रबोधाय भैरवाय नमो नमः ॥ १४ ॥

श्री कालभैरव स्तोत्र संपूर्णम् ॥ श्री कालभैरवार्पणंsस्तु ॥
शुभं भवतु ॥

श्री कालभैरव स्तोत्र का हिंदी अर्थ

भैरवदेव को मेरा नमस्कार, जो हमेशा आनंदमूर्ति के रूप में हैं, जो कानून और वेदों का ज्ञान प्रदान करते हैं। दिगंबर, कल, खतवांग को अपने हाथ में पकड़े हुए, विभूति के साथ अपने माथे को सहलाते हुए और ध्यान करते हुए, उनकी आँखें आधी बंद थीं, कुमारप्रभा, महात्मा बटुकला, चिंता मुक्त, एक त्रिशूल धारण किए हुए आदि। तलवार धारण करने वाले को प्रणाम, तीनों लोकों में भय उत्पन्न करने वाला, ब्रह्मांड की रक्षा करने वाला और ब्रह्मांड को धारण करने वाला (भैरवदेव) दैत्यों में वास करने वाले, दैत्यों के स्वामी अष्टमूर्ति को नमस्कार, वह जो समय का अतीत है क्षत्रप, कलाक्षेत्र आदिरुपी, क्षत्रिय वसंरता काल, क्षत्रजिता को नमस्कार, जो बुद्धिमान और सभ्य हैं, कथनों के गुरु और निधियों के पति हैं। दुनिया के दुखों को दूर कर भक्तों को आनंद देने वाले को मेरा नमस्कार। भैरवदेव को नमस्कार, जो अभिमान के शत्रुओं का नाश करता है और केवल नाम लेने से अष्ट ऐश्वर्य प्रदान करता है, जो सांसारिक अंतहीन दुखों को दूर करके अंतिम दर्शन देता है।

अभिवादन, वासना, घृणा और भक्तों की विपत्तियों को याद करने के बाद, दर्शन, आनंदमूर्ति और कब्रिस्तान (भैरवदेव) में रहने वालों को मेरा नमस्कार। शालीन (भैरवदेवाला) को शुभकामनाएं जो भूत, प्रेत, कुष्मांड और ग्रहों, दिगंबर और एक बड़े पिशाच से सेवाएं प्राप्त करने में तल्लीन हैं। ब्रह्मा अदिनी वन्दिला, काशीनिवासी, दंडकवासी, प्रबोधी, (भैरवदेव) को मेरा नमस्कार। इस प्रकार यह कालभैरव भजन पूरा हुआ। कालभैरव को समर्पित। आप सभी को शुभकामनायें। दुआएं देने वाली, आनंदमूर्ति और कब्रिस्तान में रहने वाले (भैरवदेव) को आपदाओं को याद करने के बाद मेरा अभिवादन। शालीन (भैरवदेवाला) को शुभकामनाएं जो भूत, प्रेत, कुष्मांड और ग्रहों, दिगंबर और एक बड़े पिशाच से सेवाएं प्राप्त करने में तल्लीन हैं।

ब्रह्मा अदिनी वन्दिला, काशीनिवासी, दंडकवासी, प्रबोधी, (भैरवदेव) को मेरा नमस्कार। इस प्रकार यह कालभैरव भजन पूरा हुआ। कालभैरव को समर्पित। आप सभी को शुभकामनायें। दुआएं देने वाली, आनंदमूर्ति और कब्रिस्तान में रहने वाले (भैरवदेव) को आपदाओं को याद करने के बाद मेरा अभिवादन। शालीन (भैरवदेवाला) को शुभकामनाएं जो भूत, प्रेत, कुष्मांड और ग्रहों, दिगंबर और एक बड़े पिशाच से सेवाएं प्राप्त करने में तल्लीन हैं। ब्रह्मा अदिनी वन्दिला, काशीनिवासी, दंडकवासी, प्रबोधी, (भैरवदेव) को मेरा नमस्कार। इस प्रकार यह कालभैरव भजन पूरा हुआ। कालभैरव को समर्पित। आप सभी को शुभकामनायें।