Connect with us

Mantra

Shri Nav Graha Stotram (Hymns) – श्री नवग्रह स्तोत्र (मंत्र)

II नवग्रह स्तोत्र II

अथ नवग्रह स्तोत्र II
श्री गणेशाय नमः II

जपाकुसुम संकाशं काश्यपेयं महदद्युतिम् I
तमोरिंसर्वपापघ्नं प्रणतोSस्मि दिवाकरम् II १ II

दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णव संभवम् I
नमामि शशिनं सोमं शंभोर्मुकुट भूषणम् II २ II

धरणीगर्भ संभूतं विद्युत्कांति समप्रभम् I
कुमारं शक्तिहस्तं तं मंगलं प्रणाम्यहम् II ३ II

प्रियंगुकलिकाश्यामं रुपेणाप्रतिमं बुधम् I
सौम्यं सौम्यगुणोपेतं तं बुधं प्रणमाम्यहम् II ४ II

देवानांच ऋषीनांच गुरुं कांचन सन्निभम् I
बुद्धिभूतं त्रिलोकेशं तं नमामि बृहस्पतिम् II ५ II

हिमकुंद मृणालाभं दैत्यानां परमं गुरुम् I
सर्वशास्त्र प्रवक्तारं भार्गवं प्रणमाम्यहम् II ६ II

नीलांजन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम् I
छायामार्तंड संभूतं तं नमामि शनैश्चरम् II ७ II

अर्धकायं महावीर्यं चंद्रादित्य विमर्दनम् I
सिंहिकागर्भसंभूतं तं राहुं प्रणमाम्यहम् II ८ II

पलाशपुष्पसंकाशं तारकाग्रह मस्तकम् I
रौद्रंरौद्रात्मकं घोरं तं केतुं प्रणमाम्यहम् II ९ II

इति श्रीव्यासमुखोग्दीतम् यः पठेत् सुसमाहितः I
दिवा वा यदि वा रात्रौ विघ्न शांतिर्भविष्यति II १० II

नरनारी नृपाणांच भवेत् दुःस्वप्ननाशनम् I
ऐश्वर्यमतुलं तेषां आरोग्यं पुष्टिवर्धनम् II ११ II

ग्रहनक्षत्रजाः पीडास्तस्कराग्निसमुभ्दवाः I
ता सर्वाःप्रशमं यान्ति व्यासोब्रुते न संशयः II १२ II

II इति श्रीव्यास विरचितम् आदित्यादी नवग्रह स्तोत्रं संपूर्णं II

नवग्रह स्तोत्र का हिन्दी अर्थ:

मैं सूर्य को नमस्कार करता हूं, दिन का राजा, जो बहुत उज्ज्वल है, कश्यप के वंश में पैदा हुआ है, जो अंधेरे के दुश्मन हैं, जो सभी प्रकार के पापों को नष्ट कर देता है, जसवंडी के फूल की तरह लाल अंगों के साथ।

मैं सोमा (चंद्रा) को नमस्कार करता हूं, जो दही और शंख की ठंढी, दूध के सागर से निर्मित, भगवान शिव के सिर पर आभूषणों की तरह दिखता है और एक खरगोश रखता है।

मैं उस मंगल को नमस्कार करता हूँ जैसे कुमारस्वरुप, जो पृथ्वी के पेट से पैदा हुआ था, के पास बिजली की तरह अंग हैं, उसके हाथ में शक्ति का हथियार है।

मैं बुध को नमस्कार करता हूं, जो अशोक के फूल की तरह लाल-हरे रंग के साथ बहुत सुंदर, बुद्धिमान, सीधा, सीधा है।

मैं देवताओं और ऋषियों के गुरु बृहस्पति (गुरु) को नमस्कार करता हूं, जो सोने के समान सुंदर, बहुत बुद्धिमान, तीनों लोकों से श्रेष्ठ हैं।

मैं शुक्र का अभिवादन करता हूं, जो बर्फ के टुकड़े की तरह चमकता है, जो राक्षसों का गुरु है, जिसे सभी शास्त्रों का ज्ञान है, जो भृगुकुल में पैदा हुआ है।

मैं उस शनि (शनि) को नमस्कार करता हूँ, जो सूर्य का पुत्र, यम का बड़ा भाई है, जिसे नीले रंग की आभा है।

मैं राहु को प्रणाम करता हूँ, जो सिंह राशि से उत्पन्न होने वाले चन्द्रमा और सूर्य को अर्धनग्न करने वाला, स्खलित होने वाला, पीड़ा देने वाला है।

मैं केतु को नमस्कार करता हूं, जो एक मटर के फूल की तरह लाल है, सितारों और ग्रहों में प्रमुख है, भयावह, रुद्र से गर्म।

इस प्रकार जो कोई भी दिन-रात श्रीविग्रह ऋषि के मुख से इस नवग्रह स्तोत्र का पाठ करेगा, सभी बाधाएं दूर हो जाएंगी।

सभी पुरुषों और महिलाओं के दुखों को नष्ट कर दिया जाएगा। उनके धन, स्वास्थ्य और श्रेष्ठता में वृद्धि होगी।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि ग्रहों, नक्षत्रों, चोरों और आग से होने वाली परेशानियों को नष्ट कर दिया जाएगा।

इस प्रकार ऋषि श्रीव्यास द्वारा रचित नवग्रह भजन पूरा हुआ।

नवग्रह स्तोत्र नवग्रह स्तोत्र व्यास ऋषि द्वारा रचित है। ये स्तोत्र नौ ग्रहों के नौ मंत्र हैं। ज्योतिषशास्त्र कहता है कि नवग्रह हमारे जीवन को प्रभावित करते हैं। इस नवग्रह भजन को प्रतिदिन श्रद्धा, भक्ति और ईमानदारी के साथ करना चाहिए ताकि आपके जीवन पर नवग्रह के बुरे प्रभाव मिट जाएं और ये नवग्रह आपके अनुकूल हो जाएं। तो हमारी परेशानी, समस्याएं गायब हो जाती हैं और बुरे सपने नहीं आते हैं। एक अच्छे और स्वस्थ जीवन से लाभ उठाएं। हम अमीर और जीवंत हैं।