Anubhav– Munsi Premchand ki Kahani (अनुभव– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

अनुभव प्रियतम को एक वर्ष की सजा हो गयी। और अपराध केवल इतना था, कि तीन दिन पहले जेठ की …

Read moreAnubhav– Munsi Premchand ki Kahani (अनुभव– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Anath Ladki– Munsi Premchand ki Kahani (अनाथ लड़की– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

अनाथ लड़की सेठ पुरुषोत्तमदास पूना की सरस्वती पाठशाला का मुआयना करने के बाद बाहर निकले तो एक लड़की ने दौड़कर …

Read moreAnath Ladki– Munsi Premchand ki Kahani (अनाथ लड़की– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Andhere – Munsi Premchand ki Kahani (अन्धेर– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

अन्धेर नागपंचमी आई। साठे के जिन्दादिल नौजवानों ने रंग-बिरंगे जॉँघिये बनवाये। अखाड़े में ढोल की मर्दाना सदायें गूँजने लगीं। आसपास …

Read moreAndhere – Munsi Premchand ki Kahani (अन्धेर– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Mamta – Munsi Premchand ki Kahani (ममता– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

ममता बाबू रामरक्षादास दिल्ली के एक ऐश्वर्यशाली खत्री थे, बहुत ही ठाठ-बाट से रहनेवाले। बड़े-बड़े अमीर उनके यहॉँ नित्य आते-आते …

Read moreMamta – Munsi Premchand ki Kahani (ममता– मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Mubarak Bimari– Munsi Premchand ki Kahani (मुबारक बीमारी – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मुबारक बीमारी रात के नौ बज गये थे, एक युवती अंगीठी के सामने बैठी हुई आग फूंकती थी और उसके …

Read moreMubarak Bimari– Munsi Premchand ki Kahani (मुबारक बीमारी – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Manawan– Munsi Premchand ki Kahani (मनावन – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मनावन बाबू दयाशंकर उन लोगों में थे जिन्हें उस वक्त तक सोहबत का मजा नहीं मिलता जब तक कि वह …

Read moreManawan– Munsi Premchand ki Kahani (मनावन – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Mandir Aur Masjid– Munsi Premchand ki Kahani ( मंदिर और मस्जिद – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मंदिर और मस्जिद चौधरी इतरतअली ‘कड़े’ के बड़े जागीरदार थे। उनके बुजुर्गो ने शाही जमाने में अंग्रेजी सरकार की बड़ी-बड़ी …

Read moreMandir Aur Masjid– Munsi Premchand ki Kahani ( मंदिर और मस्जिद – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Motar ke Chhinte– Munsi Premchand ki Kahani (मोटर के छींटे – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मोटर के छींटे क्या नाम कि प्रातःकाल स्नान-पूजा से निपट, तिलक लगा, पीतांबर पहन, खड़ाऊँ पाँव में डाल, बगल में …

Read moreMotar ke Chhinte– Munsi Premchand ki Kahani (मोटर के छींटे – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Mahatirth – Munsi Premchand ki Kahani (महातीर्थ – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

महातीर्थ मुंशी इंद्रमणि की आमदनी कम थी और खर्च ज्यादा। अपने बच्चे के लिए दाई रखने का खर्च न उठा …

Read moreMahatirth – Munsi Premchand ki Kahani (महातीर्थ – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

Mandir – Munsi Premchand ki Kahani (मन्दिर – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)

मन्दिर मातृ-प्रेम, तुझे धन्य है ! संसार में और जो कुछ है, मिथ्या है, निस्सार है। मातृ-प्रेम ही सत्य है, …

Read moreMandir – Munsi Premchand ki Kahani (मन्दिर – मुंशी प्रेमचंद की कहानी)